“HAMARI AARUSHI” A BEAUTIFUL POEM BY AMIT HARSH : ! : ! : ! : हमारी आरुषी : ! : ! : ! : ! : !

हादस� थ� �. �ि हद स� पार ह� �ए

हम �पन� ह� �़त्ल �� �ुनाह�ार ह� �ए

�ुस�र �तना � �ि स� �ह दिया

�� �ु� था पता � सब �ह दिया

à¤?लतà¥? बस à¤?तनà¥? … à¤?ि à¤?लत नहà¥?à¤? à¤?िया

à¤?िसà¥? पर भà¥? … हमनà¥? शà¤? नहà¥?à¤? à¤?िया

���ाम हु� �ि श� �� दायर� म�� � �ए

…à¤?नà¤?हà¥? बयान हमारà¥? .. à¤?र्à¤?à¥? मà¥?à¤? à¤? à¤?ए

â??तर्à¤?à¤?दलà¥?लâ?? सारà¥? तार तार हà¥? à¤?ए

हम �पन� ह� �़त्ल �� �ुनाह�ार ह� �ए

प�ड़ा प�ड़ित �� �ाना ह� नह�� ���

���ा ह� पहाड़ हमप� .. माना ह� नह�� ���

हँसत� �िल�िलात� मास�म ब��� ��वा द�

हमन� सार� ��वन �� प�ँ�� ��वा द�

�ल्�़ाम य� ह� �ि �ु� �ुपा रह� ह� हम

�्या ब�ा ह� �ब .. �� ब�ा रह� ह� हम

पल पल à¤?िà¤?दà¤?à¥? à¤?à¥? …. à¤?धार हà¥? à¤?ए

हम �पन� ह� �़त्ल �� �ुनाह�ार ह� �ए

�म्म�द थ� �ि दुनिया ढाढस ब�धाए��

�बरन� �� �स �म �� तर��� सुझाय���

पर ल��� न� त� �्या �्या दास्ताँ �ढ़ ल�

�� लि�� न �ाए, .. ऐस� �हान� पढ़ ल�

म�डिया न� हमार� नाम �� सुर्�िया �ढ़ा ल�

à¤?à¥?नलà¥?à¤? नà¥? भà¥? लà¤?à¥? हाथ …. à¤?à¥?à¤?रपà¥? बढ़ा लà¥?

��दा�����ल�� स� र��� ��बार ह� �ए

�र हम �पन� ह� �़त्ल �� �ुनाह�ार ह� �ए

हँसत� ��लत� स� ए� दुनिया थ� हमार�

हम दà¥? ….. à¤?र एà¤? à¤?ुड़िया थà¥? हमारà¥?

दु:��� �� �ुशिय�� �� �बर ल� ��

�ान� �िस �� न�़र ल� ��

�ुस�र य� �र�र �ि हम �ान नह�� पाए

श�तान हमार� ब�� था, पह�ान नह�� पाए

ब�ल �मर� म�� ��प�ात� रह� ह���

ब�ान� �� लिए हम�� बुलात� रह� ह���

�ान� �िस न��द �� ���श म�� थ� हम

à¤?ुलà¥? à¤?ँà¤? … फिर न हà¥?श मà¥?à¤? थà¥? हम

यà¥? â??à¤?ुनाहâ?? हमारा â??à¤?ाबिल-ए-रहमâ?? नहà¥?à¤? हà¥?

पर मुनासिब नहà¥?à¤? à¤?हना à¤?ि … हमà¥?à¤? à¤?म नहà¥?à¤? हà¥?

�ुद न�़र म�� �पन� .. शर्मसार ह� �ए

हम �पन� ह� �़त्ल �� �ुनाह�ार ह� �ए

पुलिस, म�डिया, �दालत स� ��� �िला नह�� ह�

वà¥? à¤?्या à¤?र रहà¥? हà¥? …… à¤?ुद à¤?न्हà¥?à¤? पता नहà¥?à¤? हà¥?

फ��हत स� ब�न� �� सबन� .. फ़सान� �ढ़ दिए

�ल्�़ाम �ुद �� ना�ाम� �� .. सर हमार� मढ़ दिए

â??à¤?à¤?्à¤?ाâ?? à¤?िसà¥? à¤?à¥? … à¤?िसà¥? à¤?à¥? â??बुराâ?? बनाया à¤?या

न मिला ��� त� हम�� बलि �ा ब�रा बनाया �या

�सल�यत ब�रहम� स� मसल द� �ान� ल��

फिर .. श� �� सब�त �� श�ल द� �ान� ल��

â??तथ्यâ??, .. â??सत्यâ?? सारà¥? निराधार हà¥? à¤?ए

हम �पन� ह� �़त्ल �� �ुनाह�ार ह� �ए

स��्स, वासना, भ�� स� �्य�� �बर नह�� पात�

स�ध� सरल बात �्य�� हम �र नह�� पात�

बात à¤?भà¥? à¤?à¥? नहà¥?à¤? … हम à¤?रसà¥? सà¥? दà¥?à¤?तà¥? हà¥?

हर à¤?à¤?ना à¤?्यà¥?à¤? … à¤?सà¥? à¤?श्मà¥? सà¥? दà¥?à¤?तà¥? हà¥?

�र्ष्या, हवस, बदल� स� भ� य� �ाम ह� स�त� ह�

�़त्ल �� लिए पहल� .. तमाम ह� स�त� ह�

�� मर �या �स� भ� ब�्शा नह�� �या

न�़र स� �बतल� व� न�्शा नह�� �या

�म्र, रिश्त�, ��़्बात �ा लिहा�़ भ� नह�� �िया

�माल य� �ि .. �िस� न� एतरा�़ भ� नह�� �िया

�ितन� वि��त विषमय वि�ार ह� �ए

हम �पन� ह� �़त्ल �� �ुनाह�ार ह� �ए

�न �िन�न� �ल्�ाम�� �� झुठलाना ह� ह��ा

सà¤? मामलà¥? à¤?ा … सामनà¥? लाना हà¥? हà¥?à¤?ा

वरना स�तुलन समा� �ा बि�ड़ �ाए�ा

ब�्�ा �र म�� .. माँ बाप स� डर �ाए�ा

à¤?à¥?सà¥? à¤?à¥?à¤? बà¥?à¤?à¥? …. माँ à¤?à¥? à¤?ँà¤?ल मà¥?à¤? सिमà¤?à¥?à¤?à¥?

पिता स� ��स� .. �िल�न�� �� �ातिर म�ल���

�र .. साबित हु� �ल्�़ाम त� हर ब�्�ा सहम �ाए�ा

रिश्तà¥?à¤? à¤?ा à¤?à¥?à¤? … हर तिलस्म à¤?ाएà¤?ा

ब�मान� सार� रिश्त� नात� .. परिवार ह� �ए

हम �पन� ह� �़त्ल �� �ुनाह�ार ह� �ए

~ ~ { …. â??तलवार दम्पतिâ? à¤?à¥? दर्द à¤?à¥? समर्पित …. } ~ ~

Amazing how deeply this writer can feel

Nupur and Rajeshâ??s pain

when he is not even remotely related to them or has ever met them

A Beautiful Poem

By

AMIT HARSH